Vishnu Chalisa Hindi Lyrics 2021 | श्री विष्णु चालीसा

Vishnu Chalisa Hindi Lyrics

श्री विष्णु चालीसा एक अद्भुत चालीसा है। आइये जानते है की इसका पाठ करने से आपको क्या-क्या फ़ायदे प्राप्त होंगे। और कब इसे पढ़ना चाहिए। विष्णु चालीसा का पाठ भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है। इससे वैवाहिक जीवन में समृद्धि आती है और जीवन खुशहाल हो जाता है।

इसके आलावा लक्ष्मी जी भगवान विष्णु की धर्म पत्नी है। यदि आप विष्णु चालीसा का पाठ करते है तो यह माना जाता है जी। आपके ग्रहस्त जीवन में सुख शांति और धन की परिपूर्णता हो जाती है। अर्थात विष्णु भगवन और देवी लक्ष्मी का एक साथ आपके जीवन में आ जाते है। और लम्बे समय तक अपनी कृपा बरसाते है।

Vishnu Chalisa Hindi Lyrics

दोहा

विष्णु सुनिए विनय सेवक की चितलाय।
कीरत कुछ वर्णन करूं दीजै ज्ञान बताय।

चौपाई

नमो विष्णु भगवान खरारी।
कष्ट नशावन अखिल बिहारी॥
प्रबल जगत में शक्ति तुम्हारी।
त्रिभुवन फैल रही उजियारी॥

सुन्दर रूप मनोहर सूरत।
सरल स्वभाव मोहनी मूरत॥

तन पर पीतांबर अति सोहत।
बैजन्ती माला मन मोहत॥

शंख चक्र कर गदा बिराजे।
देखत दैत्य असुर दल भाजे॥
सत्य धर्म मद लोभ न गाजे।
काम क्रोध मद लोभ न छाजे॥

संतभक्त सज्जन मनरंजन।
दनुज असुर दुष्टन दल गंजन॥

सुख उपजाय कष्ट सब भंजन।
दोष मिटाय करत जन सज्जन॥

पाप काट भव सिंधु उतारण।
कष्ट नाशकर भक्त उबारण॥
करत अनेक रूप प्रभु धारण।
केवल आप भक्ति के कारण॥

धरणि धेनु बन तुमहिं पुकारा।
तब तुम रूप राम का धारा॥

भार उतार असुर दल मारा।
रावण आदिक को संहारा॥

आप वराह रूप बनाया।
हरण्याक्ष को मार गिराया॥
धर मत्स्य तन सिंधु बनाया।
चौदह रतनन को निकलाया॥

अमिलख असुरन द्वंद मचाया।
रूप मोहनी आप दिखाया॥

देवन को अमृत पान कराया।
असुरन को छवि से बहलाया॥

कूर्म रूप धर सिंधु मझाया।
मंद्राचल गिरि तुरत उठाया॥
शंकर का तुम फन्द छुड़ाया।
भस्मासुर को रूप दिखाया॥

वेदन को जब असुर डुबाया।
कर प्रबंध उन्हें ढूंढवाया॥

मोहित बनकर खलहि नचाया।
उसही कर से भस्म कराया॥

असुर जलंधर अति बलदाई।
शंकर से उन कीन्ह लडाई॥
हार पार शिव सकल बनाई।
कीन सती से छल खल जाई॥

सुमिरन कीन तुम्हें शिवरानी।
बतलाई सब विपत कहानी॥

तब तुम बने मुनीश्वर ज्ञानी।
वृन्दा की सब सुरति भुलानी॥

देखत तीन दनुज शैतानी।
वृन्दा आय तुम्हें लपटानी॥
हो स्पर्श धर्म क्षति मानी।
हना असुर उर शिव शैतानी॥

तुमने ध्रुव प्रहलाद उबारे।
हिरणाकुश आदिक खल मारे॥

गणिका और अजामिल तारे।
बहुत भक्त भव सिन्धु उतारे॥

हरहु सकल संताप हमारे।
कृपा करहु हरि सिरजन हारे॥
देखहुं मैं निज दरश तुम्हारे।
दीन बन्धु भक्तन हितकारे॥

चहत आपका सेवक दर्शन।
करहु दया अपनी मधुसूदन॥

जानूं नहीं योग्य जप पूजन।
होय यज्ञ स्तुति अनुमोदन॥

शीलदया सन्तोष सुलक्षण।
विदित नहीं व्रतबोध विलक्षण॥
करहुं आपका किस विधि पूजन।
कुमति विलोक होत दुख भीषण॥

करहुं प्रणाम कौन विधिसुमिरण।
कौन भांति मैं करहु समर्पण॥

सुर मुनि करत सदा सेवकाई।
हर्षित रहत परम गति पाई॥

दीन दुखिन पर सदा सहाई।
निज जन जान लेव अपनाई॥
पाप दोष संताप नशाओ।
भव-बंधन से मुक्त कराओ॥

सुख संपत्ति दे सुख उपजाओ।
निज चरनन का दास बनाओ॥

निगम सदा ये विनय सुनावै।
पढ़ै सुनै सो जन सुख पावै॥

Vishnu Chalisa Lyrics In English

dohaa

vishnu sunia vinay sevak ki chitlaay।
kirat kuchh varnan karun dijai jyaan bataay।

chaupaai

namo vishnu bhagvaan kharaari।
kasht nashaavan akhil bihaari॥
prabal jagat men shakti tumhaari।
tribhuvan phail rahi ujiyaari॥

sundar rup manohar surat।
saral svbhaav mohni murat॥

tan par pitaambar ati sohat।
baijanti maalaa man mohat॥

shankh chakr kar gadaa biraaje।
dekhat daity asur dal bhaaje॥
saty dharm mad lobh n gaaje।
kaam krodh mad lobh n chhaaje॥

santabhakt sajjan manaranjan।
danuj asur dushtan dal ganjan॥

sukh upjaay kasht sab bhanjan।
dosh mitaay karat jan sajjan॥

paap kaat bhav sindhu utaaran।
kasht naashakar bhakt ubaaran॥
karat anek rup prabhu dhaaran।
keval aap bhakti ke kaaran॥

dharani dhenu ban tumahin pukaaraa।
tab tum rup raam kaa dhaaraa॥

bhaar utaar asur dal maaraa।
raavan aadik ko sanhaaraa॥

aap varaah rup banaayaa।
haranyaaksh ko maar giraayaa॥
dhar matsy tan sindhu banaayaa।
chaudah ratanan ko niklaayaa॥

amilakh asuran dvand machaayaa।
rup mohni aap dikhaayaa॥

devan ko amriat paan karaayaa।
asuran ko chhavi se bahlaayaa॥

kurm rup dhar sindhu majhaayaa।
mandraachal giri turat uthaayaa॥
shankar kaa tum phand chhudaayaa।
bhasmaasur ko rup dikhaayaa॥

vedan ko jab asur dubaayaa।
kar prabandh unhen dhundhvaayaa॥

mohit banakar khalahi nachaayaa।
ushi kar se bhasm karaayaa॥

asur jalandhar ati baldaai।
shankar se un kinh ladaai॥
haar paar shiv sakal banaai।
kin sati se chhal khal jaai॥

sumiran kin tumhen shivraani।
batlaai sab vipat kahaani॥

tab tum bane munishvar jyaani।
vriandaa ki sab surati bhulaani॥

dekhat tin danuj shaitaani।
vriandaa aay tumhen laptaani॥
ho sparsh dharm kshati maani।
hanaa asur ur shiv shaitaani॥

tumne dhruv prahlaad ubaare।
hirnaakush aadik khal maare॥

ganikaa aur ajaamil taare।
bahut bhakt bhav sindhu utaare॥

harahu sakal santaap hamaare।
kripaa karahu hari sirajan haare॥
dekhahun main nij darash tumhaare।
din bandhu bhaktan hitkaare॥

chahat aapkaa sevak darshan।
karahu dayaa apni madhusudan॥

jaanun nahin yogy jap pujan।
hoy yajy stuti anumodan॥

shiladyaa santosh sulakshan।
vidit nahin vratbodh vilakshan॥
karahun aapkaa kis vidhi pujan।
kumati vilok hot dukh bhishan॥

karahun prnaam kaun vidhisumiran।
kaun bhaanti main karahu samarpan॥

sur muni karat sadaa sevkaai।
harshit rahat param gati paai॥

din dukhin par sadaa sahaai।
nij jan jaan lev apnaai॥
paap dosh santaap nashaao।
bhav-bandhan se mukt karaao॥

sukh sampatti de sukh upjaao।
nij charanan kaa daas banaao॥

nigam sadaa ye vinay sunaavai।
padhai sunai so jan sukh paavai॥

आशा करते है आपको Vishnu Chalisa Lyrics hindi में अच्छे लगे होंगे comment करके जरूर बताये।

Leave a Comment