Shiv Chalisa Lyrics in Hindi 2021 | शिव चालीसा

Shiv Chalisa Lyrics in Hindi

आइये जानते है शिव चालीसा के महत्व को और ऐसे पढ़ा जाये की उसका अर्थ समझ में आये। और दिन में कितने बार पढ़ा जाये जिससे अधिक से अधिक लाभ प्राप्त हो। शिव चालीसा का महत्व यह है की आप किसी भी कठिन कार्य को सफलता पूर्वक कर पाएंगे यदि आप शिव चालीसा का पाठ करते है तो।

ऐसा कोई कार्य नहीं जो आप शिव चालीसा को पढ़कर नहीं कर सकते। आप महादेव के भक्त है तो आपको यह चालीसा अवश्य पढ़ना चाहिए जिससे भोले भंड़ारी प्रसन्न हो जाये।

महा शिवरात्रि में इसका पाठ करने का अधिक महत्व है। अगर आप चाहते है की आपकी कोई मनोकामना पूरी हो तो दिन में 3 बार इसका नियमित रूप से पाठ करे।

Shiv Chalisa Lyrics in Hindi

।।दोहा।।

श्री गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान।
कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥

जय गिरिजा पति दीन दयाला। सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥
भाल चन्द्रमा सोहत नीके। कानन कुण्डल नागफनी के॥

अंग गौर शिर गंग बहाये। मुण्डमाल तन छार लगाये॥
वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे। छवि को देख नाग मुनि मोहे॥

मैना मातु की ह्वै दुलारी। बाम अंग सोहत छवि न्यारी॥
कर त्रिशूल सोहत छवि भारी। करत सदा शत्रुन क्षयकारी॥

नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे। सागर मध्य कमल हैं जैसे॥
कार्तिक श्याम और गणराऊ। या छवि को कहि जात न काऊ॥

देवन जबहीं जाय पुकारा। तब ही दुख प्रभु आप निवारा॥
किया उपद्रव तारक भारी। देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी॥

तुरत षडानन आप पठायउ। लवनिमेष महँ मारि गिरायउ॥
आप जलंधर असुर संहारा। सुयश तुम्हार विदित संसारा॥

त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई। सबहिं कृपा कर लीन बचाई॥
किया तपहिं भागीरथ भारी। पुरब प्रतिज्ञा तसु पुरारी॥


दानिन महं तुम सम कोउ नाहीं। सेवक स्तुति करत सदाहीं॥
वेद नाम महिमा तव गाई। अकथ अनादि भेद नहिं पाई॥

प्रगट उदधि मंथन में ज्वाला। जरे सुरासुर भये विहाला॥
कीन्ह दया तहँ करी सहाई। नीलकण्ठ तब नाम कहाई॥

पूजन रामचंद्र जब कीन्हा। जीत के लंक विभीषण दीन्हा॥
सहस कमल में हो रहे धारी। कीन्ह परीक्षा तबहिं पुरारी॥

एक कमल प्रभु राखेउ जोई। कमल नयन पूजन चहं सोई॥
कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर। भये प्रसन्न दिए इच्छित वर॥

जय जय जय अनंत अविनाशी। करत कृपा सब के घटवासी॥
दुष्ट सकल नित मोहि सतावै । भ्रमत रहे मोहि चैन न आवै॥

त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो। यहि अवसर मोहि आन उबारो॥
लै त्रिशूल शत्रुन को मारो। संकट से मोहि आन उबारो॥

मातु पिता भ्राता सब कोई। संकट में पूछत नहिं कोई॥
स्वामी एक है आस तुम्हारी। आय हरहु अब संकट भारी॥

धन निर्धन को देत सदाहीं। जो कोई जांचे वो फल पाहीं॥
अस्तुति केहि विधि करौं तुम्हारी। क्षमहु नाथ अब चूक हमारी॥

शंकर हो संकट के नाशन। मंगल कारण विघ्न विनाशन॥
योगी यति मुनि ध्यान लगावैं। नारद शारद शीश नवावैं॥

नमो नमो जय नमो शिवाय। सुर ब्रह्मादिक पार न पाय॥
जो यह पाठ करे मन लाई। ता पार होत है शम्भु सहाई॥

ॠनिया जो कोई हो अधिकारी। पाठ करे सो पावन हारी॥
पुत्र हीन कर इच्छा कोई। निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई॥

पण्डित त्रयोदशी को लावे। ध्यान पूर्वक होम करावे ॥
त्रयोदशी ब्रत करे हमेशा। तन नहीं ताके रहे कलेशा॥

धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे। शंकर सम्मुख पाठ सुनावे॥
जन्म जन्म के पाप नसावे। अन्तवास शिवपुर में पावे॥
कहे अयोध्या आस तुम्हारी। जानि सकल दुःख हरहु हमारी॥

॥दोहा॥

नित्त नेम कर प्रातः ही, पाठ करौं चालीसा।
तुम मेरी मनोकामना, पूर्ण करो जगदीश॥
मगसर छठि हेमन्त ॠतु, संवत चौसठ जान।
अस्तुति चालीसा शिवहि, पूर्ण कीन कल्याण॥


Shiv Chalisa Lyrics in English

।।dohaa।।

shri ganesh girijaa suvan, mangal mul sujaan।
kahat ayodhyaadaas tum, dehu abhay vardaan॥

jay girijaa pati din dayaalaa। sadaa karat santan pratipaalaa॥
bhaal chandrmaa sohat nike। kaanan kundal naagaphni ke॥

ang gaur shir gang bahaaye। mundmaal tan chhaar lagaaye॥
vastr khaal baaghambar sohe। chhavi ko dekh naag muni mohe॥

mainaa maatu ki hvai dulaari। baam ang sohat chhavi nyaari॥
kar trishul sohat chhavi bhaari। karat sadaa shatrun kshaykaari॥

nandi ganesh sohai tahn kaise। saagar madhy kamal hain jaise॥
kaartik shyaam aur ganraau। yaa chhavi ko kahi jaat n kaau॥

devan jabhin jaay pukaaraa। tab hi dukh prabhu aap nivaaraa॥
kiyaa upadrav taarak bhaari। devan sab mili tumahin juhaari॥

turat shadaanan aap pathaayau। lavanimesh mahn maari giraayau॥
aap jalandhar asur sanhaaraa। suyash tumhaar vidit sansaaraa॥

tripuraasur san yuddh machaai। sabahin kripaa kar lin bachaai॥
kiyaa tapahin bhaagirath bhaari। purab pratijyaa tasu puraari॥

daanin mahan tum sam kou naahin। sevak stuti karat sadaahin॥
ved naam mahimaa tav gaai। akath anaadi bhed nahin paai॥

pragat udadhi manthan men jvaalaa। jare suraasur bhaye vihaalaa॥
kinh dayaa tahn kari sahaai। nilakanth tab naam kahaai॥

pujan raamachandr jab kinhaa। jit ke lank vibhishan dinhaa॥
sahas kamal men ho rahe dhaari। kinh parikshaa tabahin puraari॥

ek kamal prabhu raakheu joi। kamal nayan pujan chahan soi॥
kathin bhakti dekhi prabhu shankar। bhaye prasann dia echchhit var॥

jay jay jay anant avinaashi। karat kripaa sab ke ghatvaasi॥
dusht sakal nit mohi sataavai । bhramat rahe mohi chain n aavai॥

traahi traahi main naath pukaaro। yahi avasar mohi aan ubaaro॥
lai trishul shatrun ko maaro। sankat se mohi aan ubaaro॥

maatu pitaa bhraataa sab koi। sankat men puchhat nahin koi॥
svaami ek hai aas tumhaari। aay harahu ab sankat bhaari॥

dhan nirdhan ko det sadaahin। jo koi jaanche vo phal paahin॥
astuti kehi vidhi karaun tumhaari। kshamahu naath ab chuk hamaari॥

shankar ho sankat ke naashan। mangal kaaran vighn vinaashan॥
yogi yati muni dhyaan lagaavain। naarad shaarad shish navaavain॥

namo namo jay namo shivaay। sur brahmaadik paar n paay॥
jo yah paath kare man laai। taa paar hot hai shambhu sahaai॥

hriniyaa jo koi ho adhikaari। paath kare so paavan haari॥
putr hin kar echchhaa koi। nishchay shiv prsaad tehi hoi॥

pandit tryodshi ko laave। dhyaan purvak hom karaave ॥
tryodshi brat kare hameshaa। tan nahin taake rahe kaleshaa॥

dhup dip naivedy chdhaave। shankar sammukh paath sunaave॥
janm janm ke paap nasaave। antvaas shivapur men paave॥
kahe ayodhyaa aas tumhaari। jaani sakal duahkh harahu hamaari॥

॥dohaa॥

nitt nem kar praatah hi, paath karaun chaalisaa।
tum meri manokaamnaa, purn karo jagdish॥
magasar chhathi hemant hritu, sanvat chausath jaan।
astuti chaalisaa shivahi, purn kin kalyaan॥

Leave a Comment