श्री शनि चालीसा – Shani Chalisa Lyrics In Hindi 2021

Shani Chalisa Lyrics In Hindi

Shanidev Chalisa का महत्व भाग्य बदलने के लिए बहुत अधिक माना जाता। बाकि देवी देवताओ की तरह शनि देवता को प्रसन्न करना अत्याधिक महत्वपूर्ण है। शनि देव को भाग्य का देवता भी कहा जाता है। इनको प्रसन्न किये बिना आप जीवन में कभी भी तरक़्क़ी नहीं पा सकते।

कब समझते है की इसे पढ़ने के नियम क्या है जिससे ज्यादा लाभ मिले? आप शनिवार और मंगलवार को मांस ना खाये इस बात का विशेष ध्यान रखे। साथ ही इसे शाम को पढ़ना उच्चित होता है। शाम स्नानं करे और ढ़ीले वस्त्र पेहेन कर बैठ जाये। और एक लोहे का जंग लगा हुआ टुकड़ा काले कपडे में रख दे। इस बात का ख़ास ध्यान रखे की लोहा जंग लगा हुआ होना चाहिए जैसे की (कील या नट) और शनि चालीसा का पाठ करे।

Shani Chalisa Lyrics In Hindi

दोहा

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल।

दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥

जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज।

करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज॥

जयति जयति शनिदेव दयाला।

करत सदा भक्तन प्रतिपाला॥

चारि भुजा, तनु श्याम विराजै।

माथे रतन मुकुट छबि छाजै॥

परम विशाल मनोहर भाला।

टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला॥

कुण्डल श्रवण चमाचम चमके।

हिय माल मुक्तन मणि दमके॥

कर में गदा त्रिशूल कुठारा।

पल बिच करैं अरिहिं संहारा॥

पिंगल, कृष्णो, छाया नन्दन।

यम, कोणस्थ, रौद्र, दुखभंजन॥

सौरी, मन्द, शनी, दश नामा।

भानु पुत्र पूजहिं सब कामा॥

जा पर प्रभु प्रसन्न ह्वैं जाहीं।

रंकहुँ राव करैं क्षण माहीं॥

पर्वतहू तृण होई निहारत।

तृणहू को पर्वत करि डारत॥

राज मिलत बन रामहिं दीन्हयो।

कैकेइहुँ की मति हरि लीन्हयो॥

बनहूँ में मृग कपट दिखाई।

मातु जानकी गई चुराई॥

लखनहिं शक्ति विकल करिडारा।

मचिगा दल में हाहाकारा॥

रावण की गति-मति बौराई।

रामचन्द्र सों बैर बढ़ाई॥

दियो कीट करि कंचन लंका।

बजि बजरंग बीर की डंका॥

नृप विक्रम पर तुहि पगु धारा।

चित्र मयूर निगलि गै हारा॥

हार नौलखा लाग्यो चोरी।

हाथ पैर डरवायो तोरी॥

भारी दशा निकृष्ट दिखायो।

तेलिहिं घर कोल्हू चलवायो॥

विनय राग दीपक महं कीन्हयों।

तब प्रसन्न प्रभु ह्वै सुख दीन्हयों॥

हरिश्चन्द्र नृप नारि बिकानी।

आपहुं भरे डोम घर पानी॥

तैसे नल पर दशा सिरानी।

भूंजी-मीन कूद गई पानी॥

श्री शंकरहिं गह्यो जब जाई।

पारवती को सती कराई॥

तनिक विलोकत ही करि रीसा।

नभ उड़ि गयो गौरिसुत सीसा॥

पाण्डव पर भै दशा तुम्हारी।

बची द्रौपदी होति उघारी॥

कौरव के भी गति मति मारयो।

युद्ध महाभारत करि डारयो॥

रवि कहँ मुख महँ धरि तत्काला।

लेकर कूदि परयो पाताला॥

शेष देव-लखि विनती लाई।

रवि को मुख ते दियो छुड़ाई॥

वाहन प्रभु के सात सुजाना।

जग दिग्गज गर्दभ मृग स्वाना॥

जम्बुक सिंह आदि नख धारी।

सो फल ज्योतिष कहत पुकारी॥

गज वाहन लक्ष्मी गृह आवैं।

हय ते सुख सम्पति उपजावैं॥

गर्दभ हानि करै बहु काजा।

सिंह सिद्धकर राज समाजा॥

जम्बुक बुद्धि नष्ट कर डारै।

मृग दे कष्ट प्राण संहारै॥

जब आवहिं प्रभु स्वान सवारी।

चोरी आदि होय डर भारी॥

तैसहि चारि चरण यह नामा।

स्वर्ण लौह चाँदी अरु तामा॥

लौह चरण पर जब प्रभु आवैं।

धन जन सम्पत्ति नष्ट करावैं॥

समता ताम्र रजत शुभकारी।

स्वर्ण सर्व सर्व सुख मंगल भारी॥

जो यह शनि चरित्र नित गावै।

कबहुं न दशा निकृष्ट सतावै॥

अद्भुत नाथ दिखावैं लीला।

करैं शत्रु के नशि बलि ढीला॥

जो पण्डित सुयोग्य बुलवाई।

विधिवत शनि ग्रह शांति कराई॥

पीपल जल शनि दिवस चढ़ावत।

दीप दान दै बहु सुख पावत॥

कहत राम सुन्दर प्रभु दासा।

शनि सुमिरत सुख होत प्रकाशा॥

दोहा

पाठ शनिश्चर देव को, की हों ‘भक्त’ तैयार।

करत पाठ चालीस दिन, हो भवसागर पार॥


Shani Chalisa Lyrics In English

dohaa

jay ganesh girijaa suvan, mangal karan kripaal।

dinan ke dukh dur kari, kijai naath nihaal॥

jay jay shri shanidev prabhu, sunahu vinay mahaaraaj।

karahu kripaa he ravi tanay, raakhahu jan ki laaj॥

jayati jayati shanidev dayaalaa।

karat sadaa bhaktan pratipaalaa॥

chaari bhujaa, tanu shyaam viraajai।

maathe ratan mukut chhabi chhaajai॥

param vishaal manohar bhaalaa।

tedhi driashti bhriakuti vikraalaa॥

kundal shravan chamaacham chamke।

hiy maal muktan mani damke॥

kar men gadaa trishul kuthaaraa।

pal bich karain arihin sanhaaraa॥

pingal, kriashno, chhaayaa nandan।

yam, konasth, raudr, dukhabhanjan॥

sauri, mand, shani, dash naamaa।

bhaanu putr pujahin sab kaamaa॥

jaa par prabhu prasann hvain jaahin।

rankahun raav karain kshan maahin॥

parvathu trian hoi nihaarat।

trianhu ko parvat kari daarat॥

raaj milat ban raamahin dinhyo।

kaikeehun ki mati hari linhyo॥

banhun men mriag kapat dikhaai।

maatu jaanki gayi churaai॥

lakhanahin shakti vikal karidaaraa।

machigaa dal men haahaakaaraa॥

raavan ki gati-mati bauraai।

raamachandr son bair bdhaai॥

diyo kit kari kanchan lankaa।

baji bajarang bir ki dankaa॥

nriap vikram par tuhi pagu dhaaraa।

chitr mayur nigali gai haaraa॥

haar naulkhaa laagyo chori।

haath pair darvaayo tori॥

bhaari dashaa nikriasht dikhaayo।

telihin ghar kolhu chalvaayo॥

vinay raag dipak mahan kinhyon।

tab prasann prabhu hvai sukh dinhyon॥

harishchandr nriap naari bikaani।

aapahun bhare dom ghar paani॥

taise nal par dashaa siraani।

bhunji-min kud gayi paani॥

shri shankarahin gahyo jab jaai।

paaravti ko sati karaai॥

tanik vilokat hi kari risaa।

nabh udi gayo gaurisut sisaa॥

paandav par bhai dashaa tumhaari।

bachi draupdi hoti ughaari॥

kaurav ke bhi gati mati maaryo।

yuddh mahaabhaarat kari daaryo॥

ravi kahn mukh mahn dhari tatkaalaa।

lekar kudi paryo paataalaa॥

shesh dev-lakhi vinti laai।

ravi ko mukh te diyo chhudaai॥

vaahan prabhu ke saat sujaanaa।

jag diggaj gardabh mriag svaanaa॥

jambuk sinh aadi nakh dhaari।

so phal jyotish kahat pukaari॥

gaj vaahan lakshmi griah aavain।

hay te sukh sampati upjaavain॥

gardabh haani karai bahu kaajaa।

sinh siddhakar raaj samaajaa॥

jambuk buddhi nasht kar daarai।

mriag de kasht praan sanhaarai॥

jab aavahin prabhu svaan savaari।

chori aadi hoy dar bhaari॥

taisahi chaari charan yah naamaa।

svarn lauh chaandi aru taamaa॥

lauh charan par jab prabhu aavain।

dhan jan sampatti nasht karaavain॥

samtaa taamr rajat shubhkaari।

svarn sarv sarv sukh mangal bhaari॥

jo yah shani charitr nit gaavai।

kabahun n dashaa nikriasht sataavai॥

adbhut naath dikhaavain lilaa।

karain shatru ke nashi bali dhilaa॥

jo pandit suyogy bulvaai।

vidhivat shani grah shaanti karaai॥

pipal jal shani divas chdhaavat।

dip daan dai bahu sukh paavat॥

kahat raam sundar prabhu daasaa।

shani sumirat sukh hot prkaashaa॥

dohaa

paath shanishchar dev ko, ki hon ‘bhakt’ taiyaar।

karat paath chaalis din, ho bhavsaagar paar॥

सूर्य पुत्र Shani Dev के बारे और जाने।

Leave a Comment