Durga Chalisa Lyrics Hindi | श्री दुर्गा चालीसा (Navratri)

दुर्गा चालीसा हमारी भारतीय संस्कृति में अत्याधिक महत्व है। दुर्गा माँ की भक्ति से आप अपने ग्रहस्त जीवन में सुख और समृद्धि पा सकते है। दुर्गा माता दुश्मनो के संहार का प्रतिक है। अतः क्षत्रुओं से आपकी रक्षा होगी और आपका जीवन सुखमय हो जायेगा।

Durga Chalisa Lyrics Hindi

कई सारे लोगो का यह प्रश्न होता है की दुर्गा चालीसा का पाठ कब करना चाहिए? नवरात्री में दुर्गा चालीसा के पाठ से दुर्गा माँ का आशीर्वाद मिलने की सम्भवना ज्यादा होती है। क्योकि इस दौरान हमारा घर अत्याधिक स्वछ होता है और हम व्रत भी रखते है।अतः माता प्रसन्न होती है।

हलांकी प्रतिदिन इसका पाठ करना चाहिए। अगर आप किसी विशेष दिनो पर दुर्गा चालीसा का पाठ करना चाहें है तो अष्टमी और नवमी में इसका पाठ करे। आपको नवरात्री जितना ही सौभाग्य प्राप्त होगा।

Durga Chalisa Lyrics In Hindi

नमो नमो दुर्गे सुख करनी।
नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी॥

निरंकार है ज्योति तुम्हारी।
तिहूं लोक फैली उजियारी॥
शशि ललाट मुख महाविशाला।
नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥

रूप मातु को अधिक सुहावे।
दरश करत जन अति सुख पावे॥

तुम संसार शक्ति लै कीना।
पालन हेतु अन्न धन दीना॥

अन्नपूर्णा हुई जग पाला।
तुम ही आदि सुन्दरी बाला॥
प्रलयकाल सब नाशन हारी।
तुम गौरी शिवशंकर प्यारी॥

शिव योगी तुम्हरे गुण गावें।
ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें॥

रूप सरस्वती को तुम धारा।
दे सुबुद्धि ऋषि मुनिन उबारा॥

धरयो रूप नरसिंह को अम्बा।
परगट भई फाड़कर खम्बा॥
रक्षा करि प्रह्लाद बचायो।
हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो॥

लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं।
श्री नारायण अंग समाहीं॥

क्षीरसिन्धु में करत विलासा।
दयासिन्धु दीजै मन आसा॥

हिंगलाज में तुम्हीं भवानी।
महिमा अमित न जात बखानी॥
मातंगी अरु धूमावति माता।
भुवनेश्वरी बगला सुख दाता॥

श्री भैरव तारा जग तारिणी।
छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी॥

केहरि वाहन सोह भवानी।
लांगुर वीर चलत अगवानी॥

कर में खप्पर खड्ग विराजै।
जाको देख काल डर भाजै॥
सोहै अस्त्र और त्रिशूला।
जाते उठत शत्रु हिय शूला॥

नगरकोट में तुम्हीं विराजत।
तिहुंलोक में डंका बाजत॥

शुंभ निशुंभ दानव तुम मारे।
रक्तबीज शंखन संहारे॥

महिषासुर नृप अति अभिमानी।
जेहि अघ भार मही अकुलानी॥
रूप कराल कालिका धारा।
सेन सहित तुम तिहि संहारा॥

परी गाढ़ संतन पर जब जब।
भई सहाय मातु तुम तब तब॥

अमरपुरी अरु बासव लोका।
तब महिमा सब रहें अशोका॥

ज्वाला में है ज्योति तुम्हारी।
तुम्हें सदा पूजें नर-नारी॥
प्रेम भक्ति से जो यश गावें।
दुःख दारिद्र निकट नहिं आवें॥

ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई।
जन्म-मरण ताकौ छुटि जाई॥

जोगी सुर मुनि कहत पुकारी।
योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी॥

शंकर आचारज तप कीनो।
काम अरु क्रोध जीति सब लीनो॥
निशिदिन ध्यान धरो शंकर को।
काहु काल नहिं सुमिरो तुमको॥

शक्ति रूप का मरम न पायो।
शक्ति गई तब मन पछितायो॥

शरणागत हुई कीर्ति बखानी।
जय जय जय जगदम्ब भवानी॥

भई प्रसन्न आदि जगदम्बा।
दई शक्ति नहिं कीन विलम्बा॥
मोको मातु कष्ट अति घेरो।
तुम बिन कौन हरै दुःख मेरो॥

आशा तृष्णा निपट सतावें।
रिपू मुरख मौही डरपावे॥

शत्रु नाश कीजै महारानी।
सुमिरौं इकचित तुम्हें भवानी॥

करो कृपा हे मातु दयाला।
ऋद्धि-सिद्धि दै करहु निहाला।
जब लगि जिऊं दया फल पाऊं ।
तुम्हरो यश मैं सदा सुनाऊं ॥

दुर्गा चालीसा जो कोई गावै।
सब सुख भोग परमपद पावै॥

देवीदास शरण निज जानी।
करहु कृपा जगदम्ब भवानी॥

दुर्गा चालीसा का पाठ करने से आपके अंदर से किसी भी प्रकार का भय हो आपको उससे मुक्ति मिल जायगी।


Durga Chalisa Lyrics In English

namo namo durge sukh karni।
namo namo durge duahkh harni॥

nirankaar hai jyoti tumhaari।
tihun lok phaili ujiyaari॥
shashi lalaat mukh mahaavishaalaa।
netr laal bhriakuti vikraalaa॥

rup maatu ko adhik suhaave।
darash karat jan ati sukh paave॥

tum sansaar shakti lai kinaa।
paalan hetu ann dhan dinaa॥

annpurnaa hui jag paalaa।
tum hi aadi sundri baalaa॥
pralaykaal sab naashan haari।
tum gauri shivashankar pyaari॥

shiv yogi tumhre gun gaaven।
brahmaa vishnu tumhen nit dhyaaven॥

rup sarasvti ko tum dhaaraa।
de subuddhi rishi munin ubaaraa॥

dharyo rup narasinh ko ambaa।
paragat bhayi phaadkar khambaa॥
rakshaa kari prahlaad bachaayo।
hiranyaaksh ko svarg pathaayo॥

lakshmi rup dharo jag maahin।
shri naaraayan ang samaahin॥

kshirasindhu men karat vilaasaa।
dayaasindhu dijai man aasaa॥

hinglaaj men tumhin bhavaani।
mahimaa amit n jaat bakhaani॥
maatangi aru dhumaavati maataa।
bhuvneshvri baglaa sukh daataa॥

shri bhairav taaraa jag taarini।
chhinn bhaal bhav duahkh nivaarini॥

kehari vaahan soh bhavaani।
laangur vir chalat agvaani॥

kar men khappar khadg viraajai।
jaako dekh kaal dar bhaajai॥
sohai astr aur trishulaa।
jaate uthat shatru hiy shulaa॥

nagarkot men tumhin viraajat।
tihunlok men dankaa baajat॥

shumbh nishumbh daanav tum maare।
raktbij shankhan sanhaare॥

mahishaasur nriap ati abhimaani।
jehi agh bhaar mahi akulaani॥
rup karaal kaalikaa dhaaraa।
sen sahit tum tihi sanhaaraa॥

pari gaadh santan par jab jab।
bhayi sahaay maatu tum tab tab॥

amarapuri aru baasav lokaa।
tab mahimaa sab rahen ashokaa॥

jvaalaa men hai jyoti tumhaari।
tumhen sadaa pujen nar-naari॥
prem bhakti se jo yash gaaven।
duahkh daaridr nikat nahin aaven॥

dhyaave tumhen jo nar man laai।
janm-maran taakau chhuti jaai॥

jogi sur muni kahat pukaari।
yog n ho bin shakti tumhaari॥

shankar aachaaraj tap kino।
kaam aru krodh jiti sab lino॥
nishidin dhyaan dharo shankar ko।
kaahu kaal nahin sumiro tumko॥

shakti rup kaa maram n paayo।
shakti gayi tab man pachhitaayo॥

sharnaagat hui kirti bakhaani।
jay jay jay jagadamb bhavaani॥

bhayi prasann aadi jagadambaa।
dayi shakti nahin kin vilambaa॥
moko maatu kasht ati ghero।
tum bin kaun harai duahkh mero॥

aashaa triashnaa nipat sataaven।
ripu murakh mauhi darpaave॥

shatru naash kijai mahaaraani।
sumiraun ekachit tumhen bhavaani॥

karo kripaa he maatu dayaalaa।
riddhi-siddhi dai karahu nihaalaa।
jab lagi jiun dayaa phal paaun ।
tumhro yash main sadaa sunaaun ॥

durgaa chaalisaa jo koi gaavai।
sab sukh bhog paramapad paavai॥

devidaas sharan nij jaani।
karahu kripaa jagadamb bhavaani॥

Durga Chalisa Padhne Ke Fayde

  • भय समाप्त होता है।
  • सन्तान की प्राप्ति होती है।
  • जीवन में समृद्धि आती है।
  • दुश्मनो से रक्षा होती है।
  • दाम्पत्य जीवन में खुशहाली आती है।

Leave a Comment