Acharya Prashant Biography In Hindi – आचार्य प्रशान्त

Acharya Prashant Biography In Hindi

दोस्तों आप का स्वागत है आज के इस पोस्ट में बात करेंगे Acharya Prashant Biography In Hindi. जानेगे ऐसी कुछ बातें जो शायद ही अपने कभी आचार्यजी के बारे में जानते होंगे। आचार्य प्रशांत का पूरा नाम प्रशांत त्रिपाठी है। इनका जन्म 7 मार्च 1978 को महाशिवरात्रि के दिन हुआ था।

ये अपने घर में तीन भाई-बहनों में सबसे बड़े हैं इनके पिता सरकारी अफसर थे। और माताजी गृहणी थी। इनका बचपन ज्यादातर उत्तर प्रदेश में ही गुजरा था। महाराज जी अपने बचपन में शरारती होने के साथ साथ पढाई में तेज थे। आचार्य जी का पता नहीं चलता था की कब वे सीरियस हो जाते थे और कब मजाक के मूड में आ जाते थे। उनके दोस्त भी उनके इस स्वाभाव को अभी तक याद करते हैं।

Acharya Prashant Biography In Hindi

आचार्य जी अपनी शाला में एक होनहार छात्र थे। आचार्य जी की वजह से उनकी माता को कई बार सम्मानित किया गया है उनके शिक्षकों का यह भी कहना था की उन्होंने ऐसा छात्र कभी नहीं देखा जो सभी विषय में अव्वल है। आचार्य जी 5 वर्ष की उम्र से ही किताब पढ़ने के शौक़ीन थे। उनके घर में ही पुस्तकालय था जिसमें दुनिया भर के आध्यात्मिक पुस्तकें और साहित्य का समंदर था जिन्हें वो कोने में बैठ कर पढ़ते थे।

असली नाम प्रशांत त्रिपाठी
जन्म तारिक 7 मार्च 1978
Casteब्राह्मण
Age43 वर्ष
जन्म स्थानउत्तर प्रदेश
EducationGraduate [IIT-IIM Ahmedabad}
कार्यआध्यात्मिक गुरु
धर्महिन्दू [ब्राम्हण]
Height5.5 feet
Weight75 Kg
Foundation Advait Foundations

उन्होंने 10 साल की उम्र तक घर के पुस्तकालय की सभी किताबें पढ़ ली थी। उसके बाद भी वे और किताबों की मांग करने लगे। उन्होंने 17 वर्ष की उम्र में अपनी पहली कविता लिख ली थी उनकी कविताएं काफी रहस्यमय हुआ करती थी। जो हर किसी के समझ के बहार है 15 वर्ष की उम्र में कई साल लखनऊ में रहने के बाद आचार्य प्रशांत के पिताजी का जॉब ट्रांसफर दिल्ली में हुआ।

उन्होंने ने शहर के मुताबिक अपने आप को ढाल लिया। आचार्य जी रात को जागा करते थे और पढ़ाई के बाद चुपचाप आसमान को निहारा करते थे। धीरे-धीरे उनकी कविता की गहराई बढाती गई यही कारन है की आचार्य जी की अधिकतर कविताएं रात और चांदनी को समर्पित है।

आचार्य जी अपने आस पास के लोगों को देख कर यह सोचा करते थे। की वे उनकी चेतना में परिवर्तन ला सकते हैं उन्होंने यह देखना शुरू कर दिया था की मानव पीड़ा में ही एक अधूरी धरना छुपी हुई है। तो अब आचार्य जी ने इस पीड़ा को चुनौती देने का संकल्प लिया।

Acharya Prashant Education | शिक्षा प्राप्ति के बारे में

उन्होंने उसी वर्ष इंडियन सिविल सर्विस और आईआईएम अहमदाबाद में प्रवेश प्राप्त किया हालांकि आचार्य जी की रैंक के हिसाब से जो सिविल सर्विस वो चाहते थे IAS की उन्हें वह आवंटित नहीं हुई। पर उन्होंने यह देखा और समझ लिया था की Civil Services वह रास्ता नहीं है जिससे कोई क्रांतिकारी बदलाव लाया जा सके. उसके बाद आचार्य जी ने आईआईएम में अपने दो साल दिए और academic शिक्षा पूरी की पर वो ग्रेड और प्लेसमेंट तक ही सिमित नहीं रहना चाहते थे।

अभी भी कुछ था जो बाकि रह गया था आचार्य जी आश्रम के पास झुगियो में जाकर बच्चों को पढ़ाने में अपना समय दिया करते थे। और साथ ही graduate बच्चों को math पढ़ाया करते थे ताकि वह कुछ पैसा कमा के NGO में लगा सके। और उन्होंने मानव अज्ञानता को Theatre के माध्यम से समझने की कोशिश करने लगे। उन्होंने (खामोश अदालत जारी है, गेंडा, पगला घोड़ा, और 16 जनवरी की रात) जैसे नाटकों लिखे और उसमे काम किया। अब उनको अपने जीवन के लिए एक उदेश्य मिल चूका था।

Acharya Prashant Contact Details

FacebookClick Here
InstagramClick Here
TwitterClick Here
YouTubeClick Here
Email[email protected]
Websitewww.acharyaprashant.org
Mobile Number+91 9650585100, +91 9650585100

आचार्य प्रशान्त के जीवन का उद्देश्य

अब वे अपनी कलम के माध्यम से लोगो तक आध्यात्मिक शिक्षा पहुँचाने लगे 28 साल की उम्र में उन्होंने सांसारिक जीवन को छोड़ दिया। और मानव चेतना में गहरा परिवर्तन लाने के लिए आध्यात्मिक शिक्षा की शुरुआत कि 2014 मैं उन्होंने Digitally अपना कंटेंट YouTube पर अपलोड करना शुरू किया शुरुआत में वह अपने मोबाइल के कैमरा से audio रिकॉर्ड करके अपलोड किया करते थे। फिर उन्होंने अपने video बनाना शुरू किये ताकि वह बेहतर संवाद कर सके।

धीरे-धीरे आचार्य प्रशांत ने डिजिटल कैमरा के साथ अपनी वीडियोस को शूट किया और अपने यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया। लोगों ने उनकी ज्ञान की प्रशंसा की और साथ ही अपने जीवन में उतारा और परिवर्तन का अनुभव किया। आचार्य प्रशांत युवाओं को जीवन जीने का सही अर्थ और उद्देश्य समझते हैं। और जीवन की वास्तविकताओं को साझा करते हैं। आचार्य जी अपनी लिखी गई किताबों के माध्यम से समाज में एक बेहतर कल लाने की अपेक्षा रखते हैं। आचार्य प्रशांत काफी अच्छे वक्त है और अपने विचारों के माध्यम से जीवन की गहराईयों को सरल भाषा में प्रकट करते हैं।

Acharya Prashant Hindi Quotes

आध्यात्मिकता का मतलब जीवन से सन्यास लेना नहीं है; यह पूरी तरह से जीवन जीने की कला है।

आचार्य प्रशान्त

इस पल की गुणवत्ता जीवन की गुणवत्ता तय करती है। यदि यह जीवन है, तो इस पल की सार्थकता जीवन की सार्थकता है।

आचार्य प्रशान्त

अपने स्वयं के जीवन का निरीक्षण करें, और आप सत्य को पहचान पाएंगे।

आचार्य प्रशान्त

किसी व्यक्ति को उसकी ऊँची आवाज़ से नहीं, बल्कि उसके मौन की गहराई से जानें।

आचार्य प्रशान्त

Acharya Prashant Books

आचार्य जी की books हिन्दी और अंग्रेजी दोनों भाषाओ में उपलब्ध है आप online pdf Download करके इसे पढ़ सकते है। और hard copy भी order कर सकते है।

FAQ’s

Acharya Prashant ki wife ka kya naam hai?

आचार्य जी की अभी तक शादी नहीं हुई है।

आचार्य जी की Networth कितनी है?

उनकी संस्था Advait में प्रतिवर्ष लाखो का डोनेशन आता है। और संस्था में कामो में खर्च भी हो जाता है।

Acharya Prashant is married or not?

He is unmarried

क्या आचार्य प्रशांत IAS है?

नहीं, उन्होंने IAS का एग्जाम दिया और अच्छी रैंक हासिल की। पर वे इंटरव्यू में select नहीं हुए और उनके सपने अधूरे रह गए।

आशा करते है आपको Acharya Prashant Biography In Hindi ये आर्टिकल पसंद आया होगा। हमे comment करके जरूर बताये।

Leave a Comment